मेक इन इंडिया | इस्पात मंत्रालय | भारत सरकार

You are here

मेक इन इंडिया

मेक इन इंडिया

निवेश सुविधा और मेक इन इंडिया

    1. परिचय

  • भारत वर्तमान में जनवरी-दिसंबर, 2019 में कच्चे इस्पात का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है, जिसने पिछले साल की इसी अवधि की तुलना में विकास दर 1.8% के साथ 111.245 मिलियन टन (अनंतिम) कच्चे इस्पात का उत्पादन किया।
  • भारत जनवरी - दिसंबर, 2019 में दुनिया में डायरेक्ट रिड्यूस्ड आयरन (डीआरआई) या स्पंज आयरन का सबसे बड़ा उत्पादक है, जिसने पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 7.7% विकास दर के साथ 36.86 मिलियन टन स्पंज आयरन का उत्पादन किया।
  • वर्ल्ड स्टील एसोसिएशन के शॉर्ट-रेंज आउटलुक के अक्टूबर, 2019 के संस्करण के अनुसार, सबसे बड़े इस्पात उपभोक्ता (2019: 900 एमटी) के रूप में चीन के बाद वर्ष 2019 में भारत का तैयार इस्पात में दूसरा सबसे बड़ा उपभोक्ता बनने की संभावना है।
  • घरेलू कच्चे इस्पात उत्पादन की क्षमता 2014-15 में 109.85 मिलियन टन प्रति वर्ष (एमटीपीए) से बढ़कर 2018-19 में 142.24 एमटीपीएतक पहुंच गई, इस पांच साल की अवधि में 6.8% की कंपाउंडेड वार्षिक वृद्धि दर (सीएजीआर) प्राप्त हुई।
  • 2014-15 में क्रूड स्टील का उत्पादन 7.6% सालाना (सीएजीआर) 98 एमटीपीएसे बढ़कर 2018-19 में 110.92 एमटीपीएहो गया।
  • अप्रैल - दिसंबर, 2019 (अनंतिम; स्रोत: जेपीसी) के दौरान, पिछले परिदृश्य की समान अवधि की तुलना में उद्योग परिदृश्य निम्नलिखित है:
  • कच्चे इस्पात का उत्पादन 82.192 मिलियन टन था, जो 0.4% अधिक था। सेल, आरआईएनएल, टीएसएल, एस्सार, जेएसडब्ल्यूएल और जेएसपीएल ने मिलकर 57% शेयर के साथ 46.752 मिलियन टन का उत्पादन किया, जो 0.4% कम था। बाकी 35.44 मिलियन टन अन्य उत्पादकों से प्राप्त हुए, जो 1.5% अधिक था।
  • 81% हिस्सेदारी के साथ, निजी क्षेत्र नेसार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के 19% योगदान की तुलना में 66.85 मिलियन टन क्रूड इस्पात का उत्पादन किया (2% अधिक)।
  • पिग आयरन का उत्पादन 4.314 मिलियन टन था, जो 14.3% कम था। निजी क्षेत्र का 88% हिस्सा था, शेष 12% सार्वजनिक क्षेत्र का हिस्सा था।
  • कुल तैयार इस्पात के मामले में (गैर-मिश्र धातु + मिश्र धातु / स्टेनलेस):
    • उत्पादन 76.33 मिलियन टन रहा, जिसमें1.8% की वृद्धि हुई।
    • निर्यात 6.52 मिलियन टन रहा, जो 39.4% बढ़ा।
    • आयात 5.51 मिलियन टन रहा, जो 6.7% नीचे था।
    • भारत कुल तैयार इस्पात का निवल निर्यातक था।
    • खपत 75.05 मिलियन टन रही, जिसमें3.8% की वृद्धि हुई।
  • भारत में निवेश आकर्षित करने के लिए प्रोजेक्ट डेवलपमेंट सेल (पीडीसी) की स्थापना इस्पात मंत्रालय ने इस्पात क्षेत्र में निवेश को सुकर बनाने और आकर्षित करने के लिए एक परियोजना विकास प्रकोष्ठ की स्थापना की है। पीडीसी भावी निवेशकों के लिए संपर्क के एक एकल केन्द्र के रूप में कार्य करेगा। पीडीसी भावी निवेशकों तक पहुंचने और निवेश प्रक्रिया के विभिन्न चरणों के दौरान निवेशकों को सुविधा प्रदान करने पर भी बल देगा।इस्पात मंत्रालय में अपर सचिव,श्रीमती रसिका चौबे पीडीसी की नोडल अधिकारी हैं। उनका आधिकारिक टेलीफोन नंबर है: 011-23063170 
  • भारतीय इस्पात क्षेत्र में निवेश करना –मेक इन इंडिया की पहलें: 

    निम्नलिखित कुछ प्रमुख कारक हैं जिनसे भारत में इस्पात की माँग तथा भारतीय इस्पात क्षेत्र में निवेश करने के कारणों को बल मिलेगा: ·        

    1. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 08.05.2017 को राष्ट्रीय इस्पात नीति (एनएसपी) 2017 के लिए अपनी मंजूरी दे दी है। नई इस्पात नीति इस्पात क्षेत्र को प्रोत्साहन देने के लिए सरकार के दीर्घकालिक दृष्टिकोण को सुनिश्चित करती है। यह घरेलू इस्पात की खपत को बढ़ाने और उच्च गुणवत्ता वाले इस्पात उत्पादन को सुनिश्चित करने और तकनीकी रूप से उन्नत और विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी इस्पात उद्योग बनाने का प्रयास करती है। इस नीति में कच्चे इस्पात की क्षमता 300 मिलियन टन (एमटी), 255 एमटीका उत्पादन और प्रति व्यक्ति इस्पात की खपत को 2030 तक 60 किलोग्राम के मौजूदा स्तर से 160 किलोग्राम के स्तर तक बढ़ाए जाने की परिकल्पना की गई है और उपभोग के प्रमुख क्षेत्रों में बुनियादी ढाँचा, ऑटोमोबाइल और आवास क्षेत्र हैं। नीति में उच्च स्तर के ऑटोमोटिव स्टील, इलेक्ट्रिकल स्टील, विशेष स्टील्स और रणनीतिक अनुप्रयोगों के लिए मिश्र धातु और वाश्ड कोकिंग कोयले की घरेलू उपलब्धता को बढ़ाने के लिए घरेलू मांग को पूरा करने की भी परिकल्पना की गई है ताकि कोकिंग कोयले पर आयात निर्भरता को वर्ष 2030-31 तक करीब 85% से कम करके करीब 65% किया जा सके।  
    2. 23 अक्टूबर, 2018 को भुवनेश्वर में 'कैपिटल गुड्स फॉर स्टील सेक्टर: मैन्युफैक्चरिंग इन इंडिया' पर एक मेगा कॉन्क्लेव प्रासंगिक केंद्रीय मंत्रालयों और राज्य सरकारों, वैश्विक प्रौद्योगिकी प्रदाताओं और विश्व इस्पात संघ, भारतीय पूंजीगत सामान निर्माताओं और प्रमुख भारतीय इस्पात कंपनियों, आरएंडडी संस्था / आईआईटी को शामिल करते हुए मेकॉन के साथ एनएसपी-2017 से निकलने वाले अवसरों के मद्देनजर भारत में इस्पात क्षेत्र के लिए पूंजीगत सामानों के घरेलू विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए आयोजित किया गया। लौह और इस्पात उद्योग के विभिन्न क्षेत्रों में प्रौद्योगिकी सहयोग के लिए और भारत में इस्पात क्षेत्र के लिए पूंजीगत वस्तुओं के निर्माण के लिए कई समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए गए।         
    3. केंद्रीय मंत्रिमंडल ने सरकारी खरीद पर घरेलू स्तर पर निर्मित लौह और इस्पात उत्पादों को प्राथमिकता प्रदान करने के लिए नीति को मंजूरी दी है। यह नीति 15% की न्यूनतम मूल्य वृद्धि वाले निर्दिष्ट इस्पात उत्पादों के लिए सरकारी खरीद में घरेलू रूप से निर्मित लौह और इस्पात उत्पाद (डीएमआई एंड एसपी) को प्राथमिकता प्रदान करती है। इस्पात उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) द्वारा जारी दिशानिर्देश के अनुसार नीति को हाल ही में 29 मई 2019 को इस्पात क्षेत्र के लिए पूंजीगत वस्तुओं में खरीद वरीयता को शामिल करते हुए संशोधित और राजपत्रित किया गया है। इस प्रक्रिया द्वारा, लोहे और इस्पात उत्पादों की पूरी श्रृंखला (अध्याय 72 और 73 के तहत) और लोहे और इस्पात उत्पादों के विनिर्माण के लिए पूंजीगत वस्तुओं को कवर करने के लिए नीति का दायरा बढ़ा दिया गया है। अब किसी विशेष उत्पाद के निर्माण की स्वदेशी क्षमता और सामर्थ्य के आधार पर घरेलू मूल्य संवर्धन की आवश्यकता को 15% से बदलकर 15-50% कर दिया गया है। यह आशा की जाती है कि प्रत्येक उत्पाद के सामने स्वदेशी मूल्यवर्धन मानदंड के साथ नीति में बदलाव से विनिर्माण आधार के विस्तार, जानकारी के आदान-प्रदान, उत्पाद विकास तथा बहुपक्षीय सहयोग के माध्यम से तकनीकी हस्तांतरण के जरिए स्वदेशी विनिर्माण को गति मिलेगी। इससे विदेशी प्रौद्योगिकी प्रदाताओं और महत्वपूर्ण इस्पात संयंत्र निर्माताओं को भारत में विनिर्माण इकाइयाँ स्थापित करने के लिए भी प्रोत्साहन प्राप्त होगा। 
    4. चिंतनशिविर: एक गतिशील, कुशल और विश्वस्तरीय प्रतिस्पर्धी भारतीय इस्पात क्षेत्र की ओर चिंतनशिविर कार्यक्रम नई दिल्ली में 23 सितंबर 2019 को आयोजित हुआ औरइसकी संकल्पना "एक गतिशील, कुशल, विश्व स्तरीय प्रतिस्पर्धी भारतीय इस्पात क्षेत्र" की परिकल्पना और उद्देश्यों के अनुरूप एक स्पष्ट विषय-वस्तु के साथ की गई थी और इसमें सरकार (केंद्र, राज्य), सीपीएसई, निजी क्षेत्र, अनुसंधान संस्थान, परामर्श और बैंकिंग क्षेत्रों में से 900 से अधिक की भागीदारी थी। संक्षिप्त विवरण इस प्रकार हैं:
      • द्वितीयक इस्पात क्षेत्र के विशेष संदर्भ में घरेलू क्षमता विस्तार: भारत में द्वितीयक इस्पात क्षेत्र वर्तमान में कुल क्षमता का 40% से अधिक का योगदान देता है और इसे भारत के लिए 300 एमटी क्षमता तक पहुंचने में महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी। इस प्रकार इस चर्चा का उद्देश्य द्वितीयक इस्पात पर विशेष ध्यान देने के साथ देश में क्षमता विस्तार की चुनौतियों की पहचान करना और तद्नुसार, इन चुनौतियों से निपटने के संबंध में सुझावों पर चर्चा करना है।
      • माँग का सृजन: दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा इस्पात उपभोक्ता होने के बावजूद, भारत में प्रति व्यक्ति इस्पात की खपत विश्व के औसत का केवल एक तिहाई है। इस सत्र का उद्देश्य देश में इस्पात की प्रति व्यक्ति खपत बढ़ाने के सुझावों पर चर्चा, विचार-विमर्श और पहचान करना था।
      • उच्च ग्रेड इस्पात उत्पादन: परिमाणके आधार पर आयात का एक छोटा सा हिस्सा होने के बावजूद, मिश्र धातु और स्टेनलेस स्टील मूल्य के आधार पर आयात बिल में अनुपात की तुलना में अत्यधिकयोगदान करते हैं। इसलिए, इस सत्र में विशेष इस्पात क्षेत्र के लिए जटिलतापूर्ण चुनौतियों पर गहन शोध किया गया और संभावित सुझावों को रेखांकित किया गया ताकि भारत उच्च स्तरीय इस्पात में एक प्रमुख किरदार के रूप में उभर सके।
      • अगले पांच वर्षों के लिए समेकित खरीद अनुमानों का वेबलिंक निम्नानुसार बनाया गया है:
        https://steel.gov.in/procurement-projections-next-3-5-years